Historical Place – Qila Anandgarh Sahib

Historical Place - Qila Anandgarh Sahib
Historical Place – Qila Anandgarh Sahib

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿੱਚ ਪੜ੍ਹੋ ਜੀ

ऐतिहासिक स्थान – किला अनन्दगढ़ साहिब

गुरू गोबिन्द सिंह साहब ने सर्वप्रथम यही किला बनवाया था। यह अप्रैल 1689 में बनना शुरू हुआ था। किला अनन्दगढ़ साहिब रोपड़ की तरफ से आते समय दाहिने हाथ आता है। किला अनन्दगढ़ साहिब की पुरानी इमारत को अजमेर चंद की फौजों ने 1705-06 में ही ढहा दिया था। फिर सिक्खों ने काफी साल बाद यहाँ गुरुद्वारा कायम किया। किला अनन्दगढ़ साहब की बाउली सरदार जस्सा सिंह आहलूवालीया ने बनावाई थी।

किला अनन्दगढ़ साहिब किला लोहगढ़ के बाद दूसरा बड़ा सैंटर था। किला अनन्दगढ़ दुश्मन के हमलों की सूरत में सबसे ज्यादा सुरक्षित जगह थी। पौष की रात में जब गुरू साहिब ने आनंदपुर साहब छोड़ा तो वे यहाँ से ही कीरतपुर साहब की तरफ चले थे। अनन्दगढ़ साहब फौजी सैंटर था और शस्त्र और गोला बारूद सारा यहाँ ही जमा किया होता था। दुश्मनों की फौजों ने इस किले पर कई बार हमले किये परन्तु हर बार मुँह की खायी।

Read about Qila Anandgarh Sahib in Punjabi

PLEASE VISIT OUR YOUTUBE CHANNEL FOR VIDEO SAAKHIS, GREETINGS, WHATSAPP STATUS, INSTA POSTS ETC. 
| Gurpurab Dates 2023 | Sangrand Dates 2023 Puranmashi Dates 2023 |
| Masya Dates 2023 Panchami Dates 2023 Dasmi Dates 2023 |
| Gurbani Quotes | Gurbani and Sikhism Festivals Greetings | Punjabi Saakhis | Saakhis in Hindi | Sangrand Hukamnama with Meaning | Gurbani and Dharmik Ringtones | Video Saakhis |

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.