Waheguru ji
Waheguru ji

जाणीजाण नही कुछ कहन दी लोड़ तैनू,,
मैंनू बख्श देवो,,गुनहगार हाँ मैं…

तैनू दे के बेदावा, जो आ गए सन,,
ओना सारेआ दा जथेदार हां मैं..

दम हिक ते आखरी खड़े होए ने,,,
कम आखरी एह करो जरूर मेरा..

किते विच मझधार ना डुब जावे,,
बेड़ी वांगरा भरेया पूर मेरा….

Note : Content source is internet.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.