Waheguru ji
Waheguru ji

कलगी वाले ने केहा””महां सिंघा,,
लथा अज एह सीस तों भार मेरा….

इतने चिरां तों इसनु सी सांभ रखेया मैं,,
मतां मंग ना लवे जथेदार मेरा…

तूँ कहें ते मैं इसनु ना पाँड़ा,,,
किदां हो सकदे इंकार मेरा…

जा वे तूँ वी साथियाँ नाल रल जा,,
जिधर गया अजीत,जुझार मेरा…

Note: Source of content is internet.

SHARE
Previous articleSikhi
Next articleBedawa

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.